मंगलवार, 11 दिसंबर 2012

ग़ज़ल(खेल जिंदगी)

ग़ज़ल(खेल जिंदगी)

दिल के पास हैं लेकिन निगाहों से वह  ओझल हैं
क्यों असुओं से भिगोने का है खेल जिंदगी। 

जिनके साथ रहना हैं ,नहीं मिलते क्यों दिल उनसे
खट्टी मीठी यादों को संजोने का है खेल जिंदगी।


किसी के खो गए अपने, किसी ने पा लिए सपनें
क्या पाने और खोने का है खेल जिंदगी।


उम्र बीती और ढोया है, सांसों के जनाजे को
जीवन सफर में हँसने रोने का
है  खेल जिंदगी।


किसी को मिल गयी दौलत, कोई तो पा गया शोहरत
मदन बोले , काटने और बोने का ये खेल जिंदगी।




ग़ज़ल प्रस्तुति:
मदन मोहन सक्सेना

31 टिप्‍पणियां:

  1. उम्र बीती और ढोया है, सांसों के जनाजे को
    जीवन सफर में हँसने रोने का खेल जिंदगी। b

    बहुत सुंदर लिखा है ...
    शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुखद एहसास की अनुभूति हुई आपकी उपस्थिति मात्र से और आपकी प्रतिक्रिया से संबल मिला - हार्दिक धन्यवाद

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. आदरणीय जी ,सादर अभिवादन ! प्रतिक्रियार्थ आभारी हूँ ! सदैव मेरे ब्लौग आप का स्वागत है !!

      हटाएं
  3. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 15/12/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनेकानेक धन्यवाद सकारात्मक टिप्पणी हेतु.शुक्रिया हलचल में हमारी पोस्ट शामिल करने का।

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. प्रोत्साहन के लिए आपका हृदयसे आभार

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. अनेकानेक धन्यवाद सकारात्मक टिप्पणी हेतु.

      हटाएं
  6. किसी को मिल गयी दौलत, कोई तो पा गया शोहरत
    मदन बोले , काटने और बोने का ये खेल जिंदगी।

    बहुत ही गहरी बात ! सच्ची अभिव्यक्ति !!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रोत्साहन के लिए आपका हृदयसे आभार

      हटाएं
  7. जीवन के इस खेल को बाखूबी लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सार्थक प्रतिक्रया हेतु शुभकामनाओं सहित हार्दिक साभार धन्यबाद ……

      हटाएं
  8. सक्सेना जी, बहुत ही सुन्दर प्रस्तुती, ग़ज़ल बहुत अच्छी बन पड़ी है।।
    बहुत बहुत आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय जी ,सादर अभिवादन ! प्रतिक्रियार्थ आभारी हूँ ! सदैव मेरे ब्लौग आप का स्वागत है !!

      हटाएं
  9. उम्र बीती और ढोया है, सांसों के जनाजे को
    जीवन सफर में हँसने रोने का है खेल जिंदगी।

    शानदार गज़ल के इस शेर के लिए खासतौर पर दाद कबूल करें.जीवन के विभिन्न आयाम पर गहन चिंतन |

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय जी ,सादर अभिवादन ! प्रतिक्रियार्थ आभारी हूँ ! सदैव मेरे ब्लौग आप का स्वागत है !!

      हटाएं
  10. ये हँसना रोना ही ज़िंदगी है ... खूबसूरत गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रोत्साहन के लिए आपका हृदयसे आभार

      हटाएं
  11. उत्तर
    1. आपकी उत्साह बढ़ाने वाली प्रतिक्रिया मिली बहुत अच्छा लगा। धन्यवाद !

      हटाएं
  12. उत्तर
    1. श्रद्धेय वर ; नमन !…… आप की हार्दिकता सदैव कुछ न कुछ नया करने को प्रेरित करती है | प्रतिक्रियार्थ आभारी हूँ

      हटाएं
  13. वाह...
    बहुत खूब..
    जिनके साथ रहना हैं ,नहीं मिलते क्यों दिल उनसे
    खट्टी मीठी यादों को संजोने का है खेल जिंदगी।

    बेहतरीन शेर....
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी उत्साह बढ़ाने वाली प्रतिक्रिया मिली बहुत अच्छा लगा। धन्यवाद !

      हटाएं
  14. उत्तर
    1. आपकी सार्थक प्रतिक्रया हेतु शुभकामनाओं सहित हार्दिक साभार धन्यबाद ……

      हटाएं

  15. हंसने ,रोने गाने , रूठने ,मनाने, मान जाने का खेल है ज़िन्दगी ...
    समझौतों को गले लगाने का खेल है ज़िन्दगी ....

    नहीं खेल आजमाने मात खाने का ज़िन्दगी ...कुछ ऐसे ही भाव पिरोये रचना आगे बढ़ती है ...

    साक्षी भाव से ज़िन्दगी को देखने निहारने का खेल है ज़िन्दगी ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सार्थक प्रतिक्रया हेतु शुभकामनाओं सहित हार्दिक साभार धन्यबाद ……

      हटाएं